सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यद्यपि मेरे अपने लिखे का स्तर कहीं भी प्रकाशन योग्य नहीं है, फिर भी यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

28 November 2010

खिल उठें ये कलियाँ

(1)


रोज़ सुबह
मैं देखता हूँ
इन अनखिली कलियों को
पीठ पर
आशाओं का बोझा लादे
चलती जाती हैं
जो
एक फूल बनने का
अनोखा
सपना लेकर

(2)


मैं भी चाहता हूँ
जल्दी से
ये कलियाँ खिल उठें
और मैं
महसूस कर सकूं
नए फूलों की
ताज़ी खुशबू को

उस खुशबू को
जो हर दिशा में फ़ैल कर
करवा दे
अपने होने का
एहसास

ताकि फिर खिल सकें
कुछ और
नयी कलियाँ.






(Photos:Google Image Search)                     (मैं मुस्कुरा रहा हूँ..)

19 comments:

  1. सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. उस खुशबू को
    जो हर दिशा में फ़ैल कर
    करवा दे
    अपने होने का
    एहसास

    ताकि फिर खिल सकें
    कुछ और
    नयी कलियाँ.

    दिल को वाकई छू गईं...बहुत खूब यशवंत जी...आशाओं की कलियां, आशाओं का सवेरा....आशा ही आशा..

    ReplyDelete
  3. ताकि फिर खिल सकें
    कुछ और
    नयी कलियाँ.


    आपकी सोच ने मंत्रमुग्ध कर दिया..... बेहद खूबसूरत विचार है. जल्द ही खिले ये प्यारी-प्यारी कलियाँ बगियन में खिलखिलाने को जगमगाने को......

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (29/11/2010) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा।
    http://charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. कल...आज और आने वाले कल के सपने संजोये, कली से फूल बनने के एहसास संजोये सुन्दर रचना!

    ReplyDelete
  7. हमारे देश की लड़कियां ही एकदिन देश का नाम उज्जवल करेगी ..
    सुन्दर रचना ...

    ReplyDelete
  8. कितनी सीधी सच्ची खरी और सकारात्मक बातें

    ReplyDelete
  9. हृदय स्पर्शी रचना।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर और सार्थक रचना....

    ReplyDelete
  11. ... bahut sundar ... khoobsoorat rachanaa ... badhaai !!!

    ReplyDelete
  12. bahut sundar..saarthak rachnatmak lekhan..

    ReplyDelete
  13. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी इस रचना का लिंक मंगलवार 30 -11-2010
    को दिया गया है .
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    ReplyDelete
  14. हृदय स्पर्शी रचना।
    बहुत पसन्द आया
    बहुत देर से पहुँच पाया .........माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  15. .... एक एक पंक्तियों ने मन को छू लिया ...

    ReplyDelete
  16. आदरणीया संगीता जी,वीना जी,वंदना जी,पूजा जी,वंदना गुप्ता जी,अनुपमा जी,इन्द्रनील जी,रचना जी,मनोज जी,मोनिका जी,उदय जी,अरविन्द जी एवं संजय जी आप सभी को बहुत बहुत धन्यवाद इन पंक्तियों को पसंद करने के लिए.

    आदरणीया संगीता जी एवं वंदना जी--चर्चा मंच पर मुझे स्थान देने के लिए आप का विशेष आभार.

    ReplyDelete
  17. वाह यशवंत जी...दोनों कवितायें बेहद बेहद खूबसूरत हैं :)
    पहली वाली खास पसंद आई :)

    ReplyDelete

  18. ​बहुत अच्छा यशवंत। रचना के सुर अच्छे हैं, भाव गहरे हैं। जारी रखो। भावुक व्यक्ति ही जीवन का रस पीता है। सादगी पसंद ही इस देश के मणिमुकुट बनेंगे। ग्लानि मत करो, अच्छी मंजिल तुम्हारा इंतजार कर रही है। साथ बने रहो, लिखते चलो।

    ReplyDelete

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time in appearing your comment here.

+Get Now!