सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यद्यपि मेरे अपने लिखे का स्तर कहीं भी प्रकाशन योग्य नहीं है, फिर भी यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

21 June 2011

फादर्स डे पर सौम्या की कुछ कवितायेँ -

 मुझे लखनऊ की सौम्या श्रीवास्तव-आयु लगभग 12 वर्ष  (सुपुत्री श्रीमती एवं श्री अवधेश श्रीवास्तव जी) जो कक्षा-8 की छात्रा हैं , की फादर्स डे पर कुछ कवितायेँ प्राप्त हुई हैं जिनकी स्कैन कॉपी उन्हीं की हस्तलिपि में यहाँ प्रकाशित कर रहा हूँ.
मुझे पूरा विश्वास है आप सभी का स्नेह और आशीर्वाद सौम्या को अवश्य प्राप्त होगा-



 विशेष बात यह है कि परिवार में इनके अलावा किसी का भी रुझान लेखन की तरफ नहीं रहा है.इस ब्लॉग के माध्यम से मैं इनके उज्जवल भविष्य की कामना करता हूँ.

26 comments:

  1. बिटिया को बहुत बहुत आशीर्वाद ,शुभकामनायें बहुत अच्छे ढंग से अपने पिता के प्रति स्नेह और उनके अस्तित्व को अपनी रचना के माध्यम से प्रस्तुत किया है./इसी तरह अच्छी-अच्छी रचनाएँ वो लिखती रहे बस यही कामना है./

    ReplyDelete
  2. शाबाश सौम्या ! आपने बहुत अच्छी कवितायें लिखी हैं ! पापा के लिये आपके मन की भावनाओं का हम भी आदर करते हैं ! पिता बच्चों के जीवन में सच्चे मार्गदर्शक होते हैं ! आपके लिये बहुत सारी शुभकामनायें ! इसी तरह लिखती रहें ! सफलता और कीर्ति शीघ्र ही आपके कदम चूमेगी !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर रचना| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर बालसुलभ भाव लिए रचनाएँ..... सौम्य को बहुत बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
  5. अच्छी शुरुआत है सौम्या विचार बहुत अच्छे है लिखती रहो

    ReplyDelete
  6. वाह..बहुत बढ़िया प्रयास ...
    आप दोनों को शुभकामनायें ...!!

    ReplyDelete
  7. सौम्या का सराहनीय प्रयास ... बधाई और शुभकामनायें ..

    ReplyDelete
  8. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल २३-६ २०११ को यहाँ भी है

    आज की नयी पुरानी हल चल - चिट्ठाकारों के लिए गीता सार

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर...शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर ! सौम्या को शुभकामनाएं !
    बच्चों की हस्तलिपि देखना प्रीतिकर है, अब जब कि हस्तलिपि कम होती जा रही, आभार!

    ReplyDelete
  11. har bacche ke man ke bhav ko somya ne bakhubi likha hain.apne pita ke liye har bacche ke man
    main yahi bhav hote hain.
    somya ne is umar main itni khubsurat kavitayen
    rachi hain..aage dekhiyega safalta jarur inke kadam chumegi.bas yahi chah hain hamari.Somya ko
    meri blessings.
    Yashwant ji aapko thanks ki aapne meri kavita 'Barkha ka mausam'nai purani halchal ke liye li.

    ReplyDelete
  12. प्यारी बिटिया सौम्या की प्यारी प्यारी कविताओं के लिए ख़ूब सारा प्यार

    ReplyDelete
  13. सुंदर रचना के लिए सौम्या को बधाई....

    ReplyDelete
  14. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. सौम्या की कवितायेँ दिल को छू लेने वाली हैं...किसी भी पिता के लिए ऐसी बेटी का होना गर्व का विषय है...उसकी कवितायेँ इंगित कर रही हैं के उसका भविष्य बहुत उज्जवल है...उसे शुभकामनाओं के साथ ढेर सा प्यार.

    नीरज

    ReplyDelete
  16. सौम्या की प्यारी प्यारी कविताओं के लिए ख़ूब सारा प्यार और शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  17. सौम्य आप बहुत अच्छा लिखती हो और सिर्फ इसके लिए ही नहीं आपकी भावनाएं भी आपके पापा के लिए सराहनीय हैं .बहुत बहुत बधाई.
    एक बात और अपना कार्य में योगदान के लिए यशवंत जी का भी धन्यवाद् अवश्य करना क्योंकि उनका योगदान भी अविस्मरनीय है.

    ReplyDelete
  18. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (27-6-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  19. प्रिय सौम्या आप ने बहुत अच्छा लिखा है.आप के भाव बहुत अच्छे लगे.सराहनीय.
    ऐसे ही लिखती रहें.

    ReplyDelete
  20. bahut sundar kavitayen hain. meri shubhkamnayen

    ReplyDelete
  21. सौम्या की कलम तो बहुत सुंदर लिखती है... उसके पापा का दिल तो बाग-बाग हो गया होगा.. बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  22. बहुत प्यारी नन्हीं-सी कविताएं....
    ऐसे ही खूब लिखती रहो....

    ReplyDelete
  23. soumya beta aapne bahut sunder likha hai aap apni is pratibha ko khona nhai .padhai ke sath sath sada likhte bhi rahna
    aashirvad
    rachana

    ReplyDelete
  24. itni chhoti si umra me itni achhi kavita likhna wakai kabile tarif hai...
    all the best for her bright future.

    ReplyDelete

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time in appearing your comment here.

+Get Now!