सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यद्यपि मेरे अपने लिखे का स्तर कहीं भी प्रकाशन योग्य नहीं है, फिर भी यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

19 December 2011

जिंदगी के मेलों में.......

जिंदगी के मेलों में, मैं देख रहा हूँ तमाशे
कहीं ठेलों पर बिकती चाट, और कहीं पानी बताशे *

खट्टा सा है स्वाद खुशी का ,कहीं गम मीठे लगते हैं
जलजीरे मे कभी मिठास, कभी शर्बत तीखे लगते हैं

पीना है फिर जीना है,जी जी का जंजाल हुआ
इससे पहले कभी न जाना ,लंगोटिया और कंगाल हुआ

जीवन की इन रेलों में ,बड़े अजीब से मेलों में
सबको हँसते देखा है,जब जोकर भी रो देता है। 

-----
*गोलगप्पे

45 comments:

  1. बहुत ही बढ़िया ...
    जीवन की इन रेलों में ,बड़े अजीब से मेलों में
    सबको हँसते देखा है,जब जोकर भी रो देता है।

    ReplyDelete
  2. वाह...
    वाकई जिंदगी होती बड़ी अजीब है...
    अच्छी रचना.

    ReplyDelete
  3. खट्टा सा है स्वाद खुशी का ,कहीं गम मीठे लगते हैं
    जलजीरे मे कभी मिठास, कभी शर्बत तीखे लगते हैं

    behatreen...

    ReplyDelete
  4. "सबको हँसते देखा है,जब जोकर भी रो देता है। "

    बहुत खूब !

    ReplyDelete
  5. ऐसा ही है दुनिया का मेला ...
    सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. जिन्दगी की शानदार व्याख्या की है आपने .

    ReplyDelete
  7. जीवन की सुंदर अभिव्यक्ति अच्छी पोस्ट,.....

    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    आफिस में क्लर्क का, व्यापार में संपर्क का.
    जीवन में वर्क का, रेखाओं में कर्क का,
    कवि में बिहारी का, कथा में तिवारी का,
    सभा में दरवारी का,भोजन में तरकारी का.
    महत्व है,...
    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    ReplyDelete
  8. Very very Nice post our team like it thanks for sharing

    ReplyDelete
  9. खट्टा सा है स्वाद खुशी का ,कहीं गम मीठे लगते हैं
    जलजीरे मे कभी मिठास, कभी शर्बत तीखे लगते हैं ...बहुत सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति...शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  10. यशवंत भाई ये चाट के साथ पानी बताशे वाली बात जबर्दस्त रही, बधाई।

    ReplyDelete
  11. जीवन की इन रेलों में ,बड़े अजीब से मेलों में
    सबको हँसते देखा है,जब जोकर भी रो देता है।
    वाह , सुंदर

    ReplyDelete
  12. गम मीठे लगते हैं...
    आजकल ऐसा ही कुछ चल रहा है हमारे मन में भी!

    ReplyDelete
  13. इससे पहले कभी न जाना ,लंगोटिया और कंगाल हुआ

    bahut khub...
    http://dilkikashmakash.blogspot.com/

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर ....
    जीवन की इन रेलों में ,बड़े अजीब से मेलों में
    सबको हँसते देखा है,जब जोकर भी रो देता है।

    ReplyDelete
  15. rochak... :-)magar ismen bhi bahut gahre bhav chupe hain badhiya post badhai

    ReplyDelete
  16. खट्टा सा है स्वाद खुशी का ,कहीं गम मीठे लगते हैं
    जलजीरे मे कभी मिठास, कभी शर्बत तीखे लगते हैं
    aisa bhi hota hai ..sundar !

    ReplyDelete
  17. बहुत ही सुन्दर यशवंत जी

    ReplyDelete
  18. कभी खट्टी, कभी मीठी कभी तीखा शरबत है, लेकिन पीना है और जीना है...बड़ी अजीब है जिंदगी... सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  19. सुन्दर प्रस्तुती जी ...जीवन का सटीक वर्णन

    ReplyDelete
  20. Intresting...........Paani ke batashe se Lucknow ke char paani rakhne wale ki yaad taza ho gayi.....ymmmm paani aa raha hai muh me.

    ReplyDelete
  21. वाह ...बहुत ही बढि़या ।

    कल 21/12/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, मेरी नज़र से चलिये इस सफ़र पर ...

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  22. जीवन की इन रेलों में ,बड़े अजीब से मेलों में
    सबको हँसते देखा है,जब जोकर भी रो देता है। .....bahut hi behtreen aur dil chhu lene wali rachna...

    ReplyDelete
  23. खट्टा सा है स्वाद खुशी का ,कहीं गम मीठे लगते हैं
    जलजीरे मे कभी मिठास, कभी शर्बत तीखे लगते हैं

    वाह ...बहुत खूब लिखा है आपने

    ReplyDelete
  24. आपकी प्रवि्ष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की जा रही है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल उद्देश्य से दी जा रही है!

    ReplyDelete
  25. पीना है फिर जीना है,जी जी का जंजाल हुआ
    इससे पहले कभी न जाना ,लंगोटिया और कंगाल हुआ
    ...वाह! सटीक बात कही आपने... काश नासमझ यह बात समझ लेते तो कई घर बर्बादी से बचे रहते..
    सुन्दर सार्थक प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  26. जीवन की इन रेलों में ,बड़े अजीब से मेलों में
    सबको हँसते देखा है,जब जोकर भी रो देता है।

    बहुत सुंदर !!

    ReplyDelete
  27. खट्टा सा है स्वाद खुशी का ,कहीं गम मीठे लगते हैं
    जलजीरे मे कभी मिठास, कभी शर्बत तीखे लगते हैं ...

    ये जीवन यही तो है ... कहीं धूप तो कहीं छाँव भी तो है ...

    ReplyDelete
  28. खट्टा सा है स्वाद खुशी का ,कहीं गम मीठे लगते हैं
    जलजीरे मे कभी मिठास, कभी शर्बत तीखे लगते हैं

    बहुत खूबसूरत और सटीक लिखा है

    ReplyDelete
  29. भाई ...... कभी कभी ऐसा लगता है जिंदगी को नासमझ बनकर जियो उसी में भला है !

    ReplyDelete
  30. aise hi hote hai jeewan ke mele :)
    bahut badiya likha hai ..
    Please Visit My Blog Ghost Real Pictures Paranormal and Find Love Mate

    ReplyDelete
  31. भाई यशवंत जी बहुत अच्छी कविता बधाई और शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  32. जिंदगी के मेले से जोकर के दर्शन तक हर तरह का जायका मिल गया.

    ReplyDelete
  33. बहुत खूब जी.
    बेहतरीन रचना ...

    ReplyDelete
  34. वाह ! जीवन को नए अंदाज से खंगालती हुई रचना !

    ReplyDelete
  35. सुन्दर रचना जी

    ReplyDelete
  36. bahut aachha likha hai, jeevan ka satya..

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  37. zindagi ka mela hamesha chalta rehta hai !!
    awesome writing as ever yash.. always a delight to read u :)

    Loved the welcome audio message u put on this website :)

    HAppy New YEar in advance..
    have lots of fun in the year ahead!!!

    ReplyDelete
  38. लो जी यशवंत जी...
    आपने बुलाया और हम आपके ब्लॉग पर आ गए.....!!
    काफी प्रभावी लेखनी है आपकी!
    दिल को छु गई...
    अच्छा लगा!

    ReplyDelete
  39. कल 24/12/2011को आपकी कोई पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time in appearing your comment here.

+Get Now!