सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यद्यपि मेरे अपने लिखे का स्तर कहीं भी प्रकाशन योग्य नहीं है, फिर भी यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

03 January 2012

कैलेंडर


नये साल पर
दीवारों से उतर जाते हैं
पुराने कैलेंडर
और टंग जाते हैं
नये
जिन पर बने होते हैं
कुछ चित्र
मन भावन

कुछ चित्र
जो जुड़े होते हैं
आस्था से
विश्वास से

कुछ चित्र
जिन पर
ठहर सी जाती हैं
नज़रें
सुकून की तलाश मे

कुछ चित्र
जो मूक हो कर भी
बोलते हैं
जिनकी आवाज़ को
कान नहीं
दिल सुनता है
और तन
महसूस करता है

दीवारों पर टंगे
कैलेंडर सिर्फ
कैलेंडर नहीं होते
जीवन होते हैं

तारीख के
बदलने पर भी
मूड के बदलने पर भी
उत्साह और गुस्से मे
खुशी और गम मे
कैलेंडर
रहता है साथ
भूत,वर्तमान
और भविष्य मे 
एक अभिन्न
मित्र की तरह।

38 comments:

  1. Wah Yashwantji bahut sundar likha hai aapne sach much ek calendar bada kalandar hota hai nahi...jaaaane kitni aashaye ummede inme basi hoti hai tabhi to dino ko mark kar te hai ek parivaar ke sadasya ki tarah sab maloom hota hai ise

    ReplyDelete
  2. कैलेंडर
    रहता है साथ
    भूत,वर्तमान
    और भविष्य मे
    एक अभिन्न
    मित्र की तरह।
    वाह ...बहुत खूब लिखा है

    ReplyDelete
  3. जो विचलित न कर दे वह स्त्री नहीं है
    और जो विचलित हो जाए वह पुरूष नहीं है

    लिखते जाओ और लिखते ही चले जाओ
    नया वर्ष यही कहता है मुझसे और आपसे

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर। कैलेंडर जीवन का एक अभिन्‍न और महत्वपूर्ण हिस्सा है।

    ReplyDelete
  5. calendar ke sath man ke bhavo ko bakhubi joda hai..bahut khoob :)

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्दर ..........एक नयी परिभाषा |

    ReplyDelete
  7. sundar shirshak..chuna hai aapne...lekhan ati sundar..

    ReplyDelete
  8. दीवारों पर टंगे
    कैलेंडर सिर्फ
    कैलेंडर नहीं होते
    जीवन होते हैं

    .....बहुत सच कहा है...सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  9. कैलेंडर
    मित्र की तरह। waah bhai

    ReplyDelete
  10. केलेंडर के साथ बेहतरीन अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर लिखा है......

    ReplyDelete
  12. अच्छा लिखा है ..वाह .

    ReplyDelete
  13. कल 04/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, 2011 बीता नहीं है ... !

    ReplyDelete
  14. calender ko lekar aapne bahut hi khubsurat rachna likhi hain...
    calender to sabhi ke ghar main hote hain...lekin wo nazar nahi hoti jis nazar se aapne calender ko dekha hain...aur khubsurat abhivyakti ki hain.
    bahut hi sundar rachna.

    ReplyDelete
  15. वाह क्या बात है बेहतरीन अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  16. बहुत बढ़िया...नव वर्ष की शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  17. हमारे सामने आते दिन हैं कैलेंडर ,बीते हुये उतर जाते हैं खूँटी से -हाँ उनके साथ हम कुछ चित्र जोड़ लेते हैं पर वे भी धूमिल हो जाते हैं समय की अविराम यात्रा में !

    ReplyDelete
  18. कुछ चित्र
    जो मूक हो कर भी
    बोलते हैं
    जिनकी आवाज़ को
    कान नहीं
    दिल सुनता है
    और तन
    महसूस करता है

    दीवारों पर टंगे
    कैलेंडर सिर्फ
    कैलेंडर नहीं होते
    जीवन होते हैं

    sahi kaha...

    ReplyDelete
  19. बहुत बढ़िया...
    मैं तो एक साल पुराना केलेंडर भी सहेजे रखती हूँ...पिछले हिसाब-किताब को देखने के लिए :-)

    ReplyDelete
  20. बदलती तारीख और बदलते कैलेंडर प्रगति का सूचक हैं।

    ReplyDelete
  21. जी हाँ कैलेन्डर आज जीवन के अभिन्न अंग बन गए हैं | बहुत सुंदर प्रभावी रचना,..

    ReplyDelete
  22. एक अभिन्न
    मित्र की तरह।

    एक यथार्थ,

    ReplyDelete
  23. bahut sundar मूड के बदलने पर भी
    उत्साह और गुस्से मे
    खुशी और गम मे
    कैलेंड ....jo mera man kahe ....sarthak

    ReplyDelete
  24. नए साल में ....प्रस्तुति अच्छी लगी.

    ReplyDelete
  25. नए वर्ष की याद गार प्रस्तुति,...

    "काव्यान्जलि":

    ,

    ReplyDelete
  26. कैलेंडर हमारे अभिन्न मित्र हैं हर काल में...सच है जब तक श्वास है तब तक समय का भान है और तब तक आज और कल है तो कैलेंडर हमारे साथ पल पल है..सुंदर कविता!

    ReplyDelete
  27. 'कुछ चित्र
    जो मूक हो कर भी
    बोलते हैं
    जिनकी आवाज़ को
    कान नहीं
    दिल सुनता है
    और तन
    महसूस करता है' bahut sunder abhivyati hai.

    ReplyDelete
  28. कैलेंडरों की तरह दिन भी बदलते लोगों के तो कोइ बात होती!!
    बहुत अच्छी रचना!!

    ReplyDelete
  29. कॅलेंडर पर बहूत हि उमदा सोच के साथ बेहतरीन रचना है....

    ReplyDelete
  30. सुंदर प्रस्तुति है आपकी.
    आपकी आवाज और बोलने का अंदाज
    बहुत सुन्दर हैं.

    मेरे ब्लॉग पर आपके न आने को मैं
    क्या कहूँ?

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर ....आभार

    ReplyDelete
  32. आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete
  33. Nav varsh ke liye aapko va aapke pariwarjano, mitron ko shubhkamnayen.

    bahut hi achha likha hai calender par, sach vibhinn anubhutiyan de jaate hain.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  34. मेरी नज़र में कलेंडर की परिभाषा .....कल ...आज और कल

    ReplyDelete

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time in appearing your comment here.

+Get Now!