सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यद्यपि मेरे अपने लिखे का स्तर कहीं भी प्रकाशन योग्य नहीं है, फिर भी यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

22 February 2012

सभ्यता या ......?

[कल पापा के साथ किसी काम से शहर की ओर निकलना हुआ। टेम्पो मे बैठे हुए लखनऊ के आई टी चौराहे के पास जो नज़ारा देखा उस पर पेश हैं मेरे कुछ विचार --]

चलती जा रही थी
एक राह पर 
फोर्ड गाड़ी
जिसे मैं
अफोर्ड
नहीं कर सकता
गुजरती जा रही थी
चौराहे चौराहे हो कर
अपनी मंज़िल की ओर
एक मेम
कान में मोबाइल
हाथ मे
स्टीयरिंग थामे
साब के साथ
जा रही थीं कहीं
तेज़ रफ्तार
तेज़ तर्रार
देख कर जिन्हें
सहम कर
थम जाए कोई 
मैंने सोचा
होंगी कोई
मुझे क्या
न नाता
न रिश्ता
न जान
न पहचान
उनका जीवन
वो जानें
मगर
कार की खिड़की से
बीच सड़क का
श्रंगार करते
संतरे और
केले के छिलके
कर रहे थे मजबूर
दर्शन करने को
सभ्यता
शिष्टता और
शालीनता के
जीवंत प्रतीक (?) का
दे रहे थे शिक्षा
साहब बन कर
यूं ही
अपनी शान
दिखाने की
पर
न जाने क्यों
मुझे हो रहा था
गर्व
खुद के
सड़क छाप
होने पर । 

27 comments:

  1. आज कल लोग झूठी शान दिखाने में ही अपना बडप्पन समझते है,.
    बहुत बढ़िया,बेहतरीन,अच्छी प्रस्तुति,.....

    MY NEW POST...काव्यान्जलि...आज के नेता...

    ReplyDelete
  2. हम तो अपने आस पास ही लिए फिरते हैं ऐसे लोग कई बार..

    अरे बहुत गुस्सा आता है...
    मगर गुस्से में कभी ऐसी रचना नहीं कर पाए..
    :-)

    बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  3. ऐसी सभ्यता से सड़क छाप होना बेहतर है...
    प्रभावशाली रचना...

    ReplyDelete
  4. ऐसे ही लोग देश की तरक्की में बाधक होते हैं ... पढे लिखे असभ्य ...

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब कही!
    सादर

    ReplyDelete
  6. अच्छी सोच... अच्छी रचना...
    हार्दिक बधाईयां..

    ReplyDelete
  7. ग़रीब की ज़िंदगी कुछ भी नहीं...

    ReplyDelete
  8. आपने तो बहुत अच्छा वर्णन किया..ऐसा कई बार देखने को मिलता है.
    ________
    'पाखी की दुनिया' में देखिएगा मिल्की टूथ की बातें..

    ReplyDelete
  9. आपने तो बहुत अच्छा वर्णन किया..ऐसा कई बार देखने को मिलता है.


    ________
    'पाखी की दुनिया' में देखिएगा मिल्की टूथ की बातें..

    ReplyDelete
  10. सार्थक व सटीक लेखन ...।

    ReplyDelete
  11. ,लगातार बहुत खूब यशवंत जी .इन नव रेसों को एक बार विदेशों की सैर करवानी चाहिए तब इन्हें इल्म होगा जो जितना रायीस होता है उतना ही शालीन भी होता है .निअप्त गंवार नहीं नियमों कानूनों की धज्जियां उडाता हुआ ,बेशुमार ,लगातार निशिबाषर .

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब यशवंत जी .इन नव रईसों को एक बार विदेशों की सैर करवानी चाहिए तब इन्हें इल्म होगा जो जितना रईस होता है उतना ही शालीन भी होता है . ,निपट गंवार नहीं नियमों कानूनों की धज्जियां उडाता हुआ ,बेशुमार ,लगातार निशिबाषर .

    ReplyDelete
  13. हर घटना हृदय को बाँध लेती हैं.बहुत ही सुन्दर ढंग से आपने इस स्थिति को बयां किया है.या कविता कम चलचित्र अधिक लग रहा है.लाजबाब..
    सादर....!

    ReplyDelete
  14. एक घटना जो हमें सोचने में मजबूर करती है.....

    ReplyDelete
  15. जाने अनजाने हम भी ऐसी गुस्ताखी कर बैठते हैं कभी......आगे से ख्याल रखेंगे आखिर सभ्यता का सवाल है ......फोर्ड - अफोर्ड :-))

    ReplyDelete
  16. सड़क पर ऐसी घटनाये तो अक्सर देखने को मिल
    जाती है , पर फिर भी इनकी आंखे नहीं खुलती अब क्या करे ऐसे लोगो का ..सार्थक व सटीक लेखन ....

    ReplyDelete
  17. कल शनिवार , 25/02/2012 को आपकी पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  18. सुन्दर शब्दों में गर्वीले अहसासों में भिंगोती रचना..

    ReplyDelete
  19. ekdm jiwant prastuti... sarthak

    ReplyDelete
  20. sahi likha hai aesa hi kuchh najara hota hai .dekha hai hamne bhi bahut sunder likha hai
    rachana

    ReplyDelete
  21. ज़बरदस्त आलेख ........शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  22. तथाकथित सभ्य लोगों को सच्चाई का आइना दिखाती रचना .... प्रभावपूर्ण प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  23. जीवंत कविता लिखी है यशवंत जी बधाई

    ReplyDelete
  24. कितने सीधे सच्चे शब्दों में ..कितनी सहजता से अपनी बात कह दी ..बहुत ही प्रभापूर्ण ...आभार !

    ReplyDelete

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time in appearing your comment here.

+Get Now!