प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

03 May 2012

बस यूं ही......

सूई से चुभते फूल
अब सुहाते नहीं है
कोमल से शूल
कुछ सुनाते नहीं हैं

मुंह फुला कर बैठा है
गमले मे गुलाब
गेंदा और बेला
नज़र उठाते नहीं हैं

न जाने क्या हुआ कि
क्यारियाँ भी सूख गयीं
गुलशन जो थे हलक
अब कुछ कह पाते नहीं हैं।

>>>>यशवन्त माथुर <<<<

30 comments:

  1. waah behad khubsurat shayad mausam ka asar hai

    ReplyDelete
  2. न जाने क्या हुआ कि
    क्यारियाँ भी सूख गयीं
    गुलशन जो थे हलक
    अब कुछ कह पाते नहीं हैं ,
    *बस यूँ ही कुछ होता नहीं
    जो होता है अच्छे के लिए होता ,सुहाता नहीं.... !!

    ReplyDelete
  3. वाह ...बहुत खूब लिख्‍खा है आपने ...

    ReplyDelete
  4. न जाने क्या हुआ कि
    क्यारियाँ भी सूख गयीं
    गुलशन जो थे हलक
    अब कुछ कह पाते नहीं हैं।

    बहुत बढ़िया प्रस्तुति, सुंदर रचना,.....

    MY RECENT POST.....काव्यान्जलि.....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    ReplyDelete
  5. बढ़िया प्रस्तुति |
    बधाई यशवंत जी ||

    ReplyDelete
  6. अति सुन्दर....

    ReplyDelete
  7. वाह ....बिलकुल अलग सी ...बहुत प्रभावी रचना ...!!

    ReplyDelete
  8. सुन्दर रचना | उम्दा प्रस्तुति के लिए बधाई |

    ReplyDelete
  9. वाह वाह ज आप तो गमलों और गुलाबों से बतिया रहे हैं , खूबसूरत पंक्तियां

    ReplyDelete
  10. न जाने क्या हुआ कि
    क्यारियाँ भी सूख गयीं
    गुलशन जो थे हलक
    अब कुछ कह पाते नहीं हैं। behtreen rachna....

    ReplyDelete
  11. We can learn many things from nature.....1 of the best examples... good work :)

    ReplyDelete
  12. है ज़रूरी नहीं कि
    बयां हो हर तमाशा
    मिल के पूछो कभी
    क्यूं बताते नहीं हैं!

    ReplyDelete
  13. मुंह फुला कर बैठा है
    गमले मे गुलाब
    गेंदा और बेला
    नज़र उठाते नहीं हैं!

    फूलों को क्या हुआ जो मुंह फुला के बैठ गए हैं.....ज़रूर कुछ आपकी ही नादानी होगी....

    ReplyDelete
  14. मुंह फुला कर बैठा है
    गमले मे गुलाब...
    बेहतरीन पंक्तियाँ हैं,सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  15. वाह.....................

    बहुत सुंदर यशवंत............
    प्यारी सी रचना के लिए तुम्हें बधाई.

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  16. बहुत प्रभावी रचना के लिए तुम्हें बधाई.

    ReplyDelete
  17. hmmm.. aisa bhi hota hai kabhi ...sundar rachna

    ReplyDelete
  18. बहुत सुंदर.... प्यारी सी रचना यशवंत........ ..
    .

    ReplyDelete
  19. कोमल पंक्तियां....

    ReplyDelete
  20. कभी - कभी इन गुलाब, गेंदों से बतियाना भी अच्छा लगता है, और इनका मुंह फुलाकर रूठ जाना भी... सुन्दर पंक्तियाँ... शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  21. जब फूल सुयीं से चुभने लगेंगे तो कैसे भाएंगे ? दिल की बात कहती अच्छी रचना

    ReplyDelete
  22. वाह ... बहुत खूब ... लाजवाब पंक्तियाँ ...

    ReplyDelete
  23. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  24. करुणा केसर जी का ई मेल से कहना है--

    फूलों के नखरे उठाएगें तो वो बस यूं ही चुभना छोड़ दें |

    ReplyDelete
  25. नि:शब्द कर गयी ये रचना ........ खुश रहो !!!

    ReplyDelete
  26. बहुत खूब||||
    सुन्दर रचना है जी..

    ReplyDelete

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time in appearing your comment here.

+Get Now!