प्रतिलिप्याधिकार/सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

15 May 2012

मन का पंछी


कितना अजीब होता है
मन का पंछी
पल मे यहाँ
पल मे वहाँ
पल मे नजदीक
पल मे मीलों दूर
भर सकता है उड़ान
आदि से अंत तक की
 
मन का पंछी !
बोल सकता है
मौन मे भी
जी सकता है
निर्वात मे भी
कल्पना के उस पार
जा कर
खोज सकता है
रच सकता है
नित नए शब्द
नित नये चित्र
 
मन का पंछी !
मेरे मन का पंछी
अक्सर
ले चलता है मुझको
अपनी असीमित
उड़ान के साथ
शीत ,ग्रीष्म और वर्षा मे
करने को सैर
अनगिनत मोड़ों वाली
उस राह की
जिस पर छिटके हुए हैं
विचारों के
कुछ फूल और
कुछ कांटे!

<<<<
यशवन्त माथुर>>>>

27 comments:

  1. अनगिनत मोड़ों वाली
    उस राह की
    जिस पर छिटके हुए हैं
    विचारों के
    कुछ फूल और
    कुछ कांटे!

    जीवन की उड़ान भरता .. मन का पंछी ...!!
    सुंदर रचना ...!
    शुभकामनायें ...!

    ReplyDelete
  2. मन का पंछी
    एक पल इधर
    तो दुसरे पल न जाने किधर
    सुन्दर रचना ... :)

    ReplyDelete
  3. मन का पंछी अपने में दर्द भी समेटे रहता है भाई

    ReplyDelete
  4. विचारों के फूल और कांटे चुनते हुए बढ़ते रहें बस हम!

    ReplyDelete
  5. मन का पंछी !
    बोल सकता है
    मौन मे भी
    जी सकता है
    निर्वात मे भी
    कल्पना के उस पार
    उम्दा सोच की अद्धभुत अभिव्यक्ति .... !!

    ReplyDelete
  6. जिस पर छिटके हुए हैं
    विचारों के
    कुछ फूल और
    कुछ कांटे!


    मन के पंछी की उड़ान का सटीक दृश्य ...सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  7. मन का पंछी
    पल मे यहाँ
    पल मे वहाँ
    पल मे नजदीक
    पल मे मीलों दूर
    भर सकता है उड़ान
    आदि से अंत तक की

    बहुत सुंदर.....

    ReplyDelete
  8. "जिस पर छिटके हुए हैं
    विचारों के
    कुछ फूल और
    कुछ कांटे!"
    मन का पंछी है ही निराला, यही साक्ष्य है, यही साक्षी भी...!!
    सुन्दर अभिव्यक्ति यशवंत भाई!
    सादर

    ReplyDelete
  9. मन पाखी उड़ता जाए...
    सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  10. अच्छा है आप अपने मन के पंछी के साथ उड़ते रहिये..
    विचारो के फुल -काँटों को सहेजकर इसी तरह अच्छी रचनाये लिखे .....
    सुन्दर रचना:-)

    ReplyDelete
  11. on mail by-indira mukhopadhyay

    मन का पंछी, अद्भुत कल्पना,सटीक

    ReplyDelete
  12. अनुपम भावों का संगम ... बहुत अच्‍छा लिखा है आपने ।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर....................

    मन के पंछी के परों को बचाए रखना काँटों से.......और स्वार्थी बहेलियों से भी.......
    उड़ान जारी रखना.....
    ऊंची...और ऊंची....

    सस्नेह.

    ReplyDelete
  14. एक मन ही तो है जिसकी उड़ान सबसे तेज़ है ..एक पल में वोह सबसे ऊँची पहाड़ की चोटी पर पहुँच जाता है ...दूसरे ही पल महासागर की अतल गहराईओं में .....यही तो उसकी खासियत है

    ReplyDelete
  15. जिस पर छिटके हुए हैं
    विचारों के
    कुछ फूल और
    कुछ कांटे!
    बहुत सुंदर रचना,..अच्छी प्रस्तुति

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बेटी,,,,,

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर और मासूम कविता. स्नेह.

    ReplyDelete
  17. सुंदर रचना....

    ReplyDelete
  18. Man ka panchi.... bilkul sahi...esa hi hota h...jiski alag hi duniya h... :)

    ReplyDelete
  19. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 17 -05-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में ....ज़िंदगी मासूम ही सही .

    ReplyDelete
  20. असीमित होती है मन के पंछी की उड़ान. बहुत प्यारी रचना.

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना.....

    ReplyDelete
  22. वृहत आसमान... स्वच्छंद उड़ान...

    बढ़िया रचना के लिए हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  23. यशवंत...इतनी सुन्दर रचना हेतु ढेर सी बधाई .

    ReplyDelete
  24. कितना अजीब होता है
    मन का पंछी
    पल मे यहाँ
    पल मे वहाँ
    पल मे नजदीक
    पल मे मीलों दूर
    भर सकता है उड़ान
    आदि से अंत तक की
    ........
    मेरो मन अनंत कहाँ सुख पावे
    जैसे उडी जहाज को पंछी पुनि जहाज पर आवे
    ..सच मन की चंचलता पर किसी का जोर नहीं ..
    बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time in appearing your comment here.

+Get Now!