सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यद्यपि मेरे अपने लिखे का स्तर कहीं भी प्रकाशन योग्य नहीं है, फिर भी यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

20 May 2013

'समर' के इस समर में

'समर' के इस समर में
संभल संभल के चलना है 
सर पे टोपी या अंगोछा
साथ मे पानी पीते रहना है

यह मौसम है लू का
तपती धूप का मेरे लिये 
घर की ठंडक में दुबक कर
हर दुपहर को सोना है

बस आज निकला जो घर से बाहर
तो हर 'अक्सर' की तरह देखा
मजदूर के बच्चों  को तो
अंगारों पे ही  रहना है

मेरे पैरों मे पड जाते हैं
चलते चलते छाले
पैरों में 'कुशन' की चप्पल
पहन कर के ही निकलना है

'समर' के इस समर में
संभल संभल के चलना है
कहीं तर बतर गले हैं
कहीं सूखते हलक को जीना है। 

['समर'=summer=गर्मी]

~यशवन्त माथुर©

11 comments:

  1. बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  2. 'समर' के इस समर में-बेहतरीन सार्थक संदेश देती रचना,आभार.

    ReplyDelete
  3. बस आज निकला जो घर से बाहर
    तो हर 'अक्सर' की तरह देखा
    मजदूर के बच्चों को तो
    अंगारों पे ही रहना है……………दिल को छूती एक गहन और संवेदनशील अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  4. सुंदर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  5. सुंदर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  6. समर' के इस समर में
    संभल संभल के चलना है
    कहीं तर बतर गले हैं
    कहीं सूखते हलक को जीना है।
    satik soch ...

    ReplyDelete
  7. 'समर' के इस समर में
    संभल संभल के चलना है
    कहीं तर बतर गले हैं
    कहीं सूखते हलक को जीना है। .....सटीक अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
  8. सुंदर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया यशवंत

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time in appearing your comment here.

+Get Now!