सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यद्यपि मेरे अपने लिखे का स्तर कहीं भी प्रकाशन योग्य नहीं है, फिर भी यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

Showing posts with label पर्यावरण दिवस. Show all posts
Showing posts with label पर्यावरण दिवस. Show all posts

05 June 2015

कैसे रहे हरी भरी धरती ?

कंक्रीट के जंगलों में
रहते रहते
जीते जीते
हो चुके हैं हम भी
कंक्रीट जैसे कठोर
निष्ठुर
बेजान और
बुजदिल .....
अब नहीं गिरते
हमारी आँखों से आँसू
किसी को
तड़पते
मरते देख कर
छांव की तलाश में
भटकते देख कर
या फिर
जीवन की
दो बूंद तलाशते देख कर ....
फिर क्यों
हम उम्मीद करते हैं
हरी भरी धरती की
जिसके भीतर की हलचल
पल भर में
डगमगा देती है 
सारे सपने ...
जिसके आँचल  में
अब जगह नहीं बची
रोते आसमान के
आंसुओं को समेटने की
क्योंकि
अब
धरती नहीं
सिर्फ़
अवशेष बचे हैं
हमारी तरक्की की
अजीब दस्तानों के। 

~यशवन्त यश©
+Get Now!