सर्वाधिकार सुरक्षित ©

इस ब्लॉग पर प्रकाशित अभिव्यक्ति (संदर्भित-संकलित गीत /चित्र /आलेख अथवा निबंध को छोड़ कर) पूर्णत: मौलिक एवं सर्वाधिकार सुरक्षित है।
यद्यपि मेरे अपने लिखे का स्तर कहीं भी प्रकाशन योग्य नहीं है, फिर भी यदि कहीं प्रकाशित करना चाहें तो yashwant009@gmail.com द्वारा पूर्वानुमति/सहमति अवश्य प्राप्त कर लें।

16 May 2019

काश! इसे समझ पाऊँ मैं.......

रात के गहरे
सुनसान में
अन्तर्मन के
घमासान में
आए नींद तो
सो जाऊँ मैं
सपनों में कहीं
खो जाऊँ मैं। 

सपने जो
दिखलाते हकीकत
भूत और वर्तमान की
सपने जो
झलक दिखाते
भविष्य के पूर्वानुमान की।

सब कुछ समझ कर
जानकर फिर भी
क्यूँ खुद का अहं
दिखाऊँ मैं
छल-प्रपंच ही
सत्य जीवन का
काश!
इसे समझ पाऊँ मैं।

-यश©
16/मई/2019 

इमारतों की ओर से वो तकता है


झुरमुटों की ओट से जो कभी निकलता था,
आजकल इमारतों की ओर से वो तकता है
असर उस पर भी है इस ज़ालिम ज़माने का
कि सुबह का सूरज भी बदल गया लगता है।

यश ©
20/12/2018

12 May 2019

सारांश संभव नहीं .....



अक्सर हम
कहना चाहते हैं
कुछ बातें
सारांश में
जिनके आरंभ से
अन्त तक की दूरी
कम से कम हो
और
शब्दों में
पूरा दम हो
लेकिन
हो नहीं पाता संभव
सार
क्योंकि
बनते हुए विचार
जब छूते हैं
अपना चरम
तब तक
खिंच चुकी होती हैं
सैकड़ों लकीरें ....
पड़ चुके होते हैं ...
निशान
कुछ काटे हुए
कुछ मिटाए हुए
और
बढ़ चुके होते हैं फासले
समय के पन्ने पर
आरंभ से
अन्त के।

-यश ©
12/मई/2019

01 May 2019

क्योंकि वो मजदूरी करता है

क्योंकि वो मजदूरी  करता है
किसी ऊंची इमारत पर
पटरे से लटकता है
गिरता है, मरता है
हर मौसम में
बदज़ुबानी और
जिल्लत को जीता है
क्योंकि वो मजदूरी करता है ।

क्योंकि वो मजदूरी करता है
लौट कर
अपने छोटे से घोंसले में
मिट्टी के चूल्हे पर सिकती
रोटियों को गिनता है
खाता-पीता है, सोता है
क्योंकि वो मजदूरी करता है ।

क्योंकि वो मजदूरी करता है
उसका दिन,उसकी रात
उसकी हर बात
उसका हर पल
नए कल की तलाश में
गुमशुदा सा रहता है
क्योंकि वो मजदूरी करता है ।

क्योंकि वो मजदूरी करता है
उसके रिश्ते-नाते
समाज,घर और परिवार
हर पैमाने पर
अपनी मासिक आय से
वो तुलता सा रहता है
क्योंकि वो मजदूरी करता है ।

क्योंकि वो मजदूरी करता है
इसलिए, है तो वो नौकर ही
जो खुद से बेपरवाह
बस अपने मालिक के रहम पर
पसीने से तर-बतर
अपना करम करता है
क्योंकि वो मजदूरी करता है ।

-यश ©
01/05/2019

20 April 2019

आओ वोट करें

यही अधिकार-कर्तव्य हमारा
इसका प्रयोग करें
समय आ गया चुनावों का
आओ वोट करें।

लोकतंत्र का मर्म यही है
चुनना उसको जो सही है
पाँच साल का लेखा-जोखा
सबके पास खाता-बही है।

दल के दलदल में मत फंसना
जात-पात से किनारा करना
बिना  प्रलोभन बूथ पर जाना
ई. वी. एम. का बटन दबाना ।

गर्व यही स्वाभिमान हमारा
हर खोट पर इससे चोट करें
समय आ गया चुनावों का
आओ वोट करें।

-यश©
18 मार्च 2019 
+Get Now!